कब तक मैं रुका रहूं, जब फितरत है मेरी बहते रहने की

कब तक मैं चुप चाप रहूं ,जब हसरत है मेरी कहते रहने की
कब तक मैं रुका रहूं, जब फितरत है मेरी बहते रहने की
चलता हूँ दोस्त अब मैं, चुनौती भरे रास्तों पर
आखिर कब तक अटका रहूं,जब फितरत है मेरी ढहते रहने की

रुकना जीवन की जर्नी में, कीचड़ का काम है
बहते रहना हर हाल में ,नदिया का काम है
चलता हूँ दोस्त अब मैं, चुनौती भरे रास्तों पर
आखिर कब तक धीमे से बोलूं , जब फितरत है मेरी चहकते रहने की

एहसान है आपका, इतना कुछ मुझको दिया
दिल्ली को ग्रीन बनाया, इतना प्यार मुझको किया
चलता हूँ दोस्त अब मैं, चुनौती भरे रास्तों पर
कब तक चलूँ सीधा मैँ, जब फितरत है मेरी भटकते रहने की

Facebook Comments

Puneet Verma
Puneet Verma, is founder, promoter & author of Mission Green Delhi blog & platform. He is Acumen & Ideo.org certified Human-Centered Design professional as well. You can find more than 600 articles, stories and poems written by him on this online publication.

To share thoughts with him, you can whatsapp him at +919910162399.
What are you looking for ?


Your Email

Let us know your need

×
Connect with Us

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Message

×
Subscribe

×
Close