गिरीश शर्मा कि कलम से

बच्चों को मिले ममता , बूढ़ों को हासिल हो प्यार
यही सोच कर एक दिन खुदा ने , इन्सान को किया तैयार।
माता को दिल मिला कोमल , और पिता बने बलवान
सद्बुद्धि ,सदमार्ग प्रशस्थ हो , यह बोल गये भगवान।
प्रेम भाव हो जनमानस में , कभी नए ना उपजै बैर
कभी कमी न हो अन्न वस्त्र की , तो धनरचना कर गये कुबेर।

पर अब न ममता माँ के आँचल , न पिता हृदय में प्यार
धन से ही है जीवनसाथी , धन से ही है रिश्तेदार।
धन की खातिर जीता और धन की खातिर मरा इन्सान
धन आते ही सोच रहा , मैंने ही रच दिया भगवान।

मैंने मन्दिर बना दिया है , मैंने मुकुट दिया है दान
सोने की तौली है मूरत , तो अब मेरा ही है भगवान
जिस नीयत से आया था , वो पीछे छोड़ गया इन्सान
धन आते ही सोच रहा , मैंने ही रच दिया भगवान।

गिरीश चन्द्र शर्मा ”प्रवासी ”

Facebook Comments
mm
Product Specialist (Unified communication & collaboration ) with over 10 years’ experience. Proven track record in technical solution designing consultation and sales for unified communication & Collaboration , IP Telephony solution , Video conferencing , cloud based video conferencing and call centre solution.

Area of expertise: Solution designing , technical consultation , product sizing , RFP writing and response , customer presentation , product demo and POC, new product evaluation.

A dynamic techno commercial professional with experience in Telecommunication , data networking , data security and voice solution consultation & sales.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + one =

What are you looking for ?


Your Email

Let us know your need

×
Connect with Us

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Message

×
Subscribe

×
Translate »
Close