इस सुहानी सांझ में, मुघ्को तुम आवाज ना देना

 

मेरे इस यकीन को, फिर कोई लिबाज़ ना देना -दिल से मेरे निकल रहे, सुर को तुम कोई साज़ ना देना
यूँ ही बैठे रहने दो, यूँ ही रूठे रहने दो – इस सुहानी सांझ में, मुघ्को तुम आवाज ना देना

—————————————————————–

नारंगी ये शाम हुई है, शहर की सर्ड्कें जाम हुई हैं – झील किनारे मैं हूँ बैठा, दुनिया ये बदनाम हुई है
अपनी प्यार मोह्हबत का, जाहिर कर कोई राज ना देना
यूँ ही बैठे रहने दो, यूँ ही रूठे रहने दो – इस सुहानी सांझ में, मुघ्को तुम आवाज ना देना

——————————————————————-

चिडिओं का घर वापस जाना, मुघ्को अच्छा लगता है – सूरज का यूँ छिपते जाना , मुघ्को सच्चा लगता है
अपने हँसते होठों को, होने तुम नाराज न देना

यूँ ही बैठे रहने दो, यूँ ही रूठे रहने दो – इस सुहानी सांझ में, मुघ्को तुम आवाज ना देना

Facebook Comments

mm
Hello Friends, my name is Puneet Verma and I am a passionate traveler, environment blogger, and nature lover. People call me a visual storyteller and influencer and God has given me an opportunity to initiate a beautiful community of environment enthusiasts at missiongreenindia.org and missiongreendelhi.com.

Reach out to me at 9910162399 for collaboration.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

What are you looking for ?

    ×
    Connect with Us

      ×
      Subscribe

        ×

        Subscribe Mission Green Delhi