मैं इंसान हूँ रोबोट नहीं

Puneet VermaBy on April 3, 2015

सिस्टम पर यूँ बैठे बैठे, साँसे मेरी थम रही हैं
छुट्टी वाले दिन भी मेरी, आंते सारी जम रही है
खोट है सारा जीवन का, कोई मुझमे खोट नहीं
चाहूँ मैं भी जीवन को, मैं इंसान हूँ रोबोट नहीं

कहते हैं सब ध्यान रखो तुम, करलो उतना काम रखो तुम
ध्यान आपका में रखूँगा, मेरा भी कुछ ध्यान रखो तुम
पल दो पल का खेल ये सारा, कैसे सबको ना कहूँ में
कर्म ही अपना जीवन सारा, कर्म को अपनी माँ कहूँ मैं
माँ तू मुघको सांस दिला दे, चाहूँ मैं कोई नोट नहीं
चाहूँ मैं भी जीवन को, मैं इंसान हूँ रोबोट नहीं

चलता रहता है जो हर पल , रोबोट कभी भी बंद हो जाता
चिपक रहा जो सिस्टम से , इंसान कभी भी बंद हो जाता
ग्रीन टेक को जो ना जाए , ऐसा कोई वोट नहीं
चाहूँ मैं भी जीवन को, मैं इंसान हूँ रोबोट नहीं

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone

होली पर यूँ भांग चढ़ाकर, मस्ती में सब पागल हो गए

Puneet VermaBy on March 6, 2015

बच्चे बूढ़े नाच रहे हैं, हम तो गुंजियां बाँट रहे हैं
होली के इस अवसर पर, बाबा हमको डांट रहे हैं
आसमान में रंगों के, घने घने से बादल हो गए
होली पर यूँ भांग चढ़ाकर, मस्ती में सब पागल हो गए

दिल्ली की तुम सड़कें देखो, प्रीत विहार के लड़के देखो
सड़कें सारी आज धुल गयी, भांग हमारे मुह में घुल गयी
आज गुब्बारे सर पर फूटे, शहर में हमने सब दिल लूटे
आसमान में रंगों के, घने घने से बादल हो गए
होली पर यूँ भांग चढ़ाकर, मस्ती में सब पागल हो गए

मिशन ग्रीन की कविता पड़कर, ग्रीन ग्रीन ये होली हो गयी
कृष्ण नगर की गलियों में जब, कविताओं की झोली खो गयी
हम भी पागल आज हो गए, तुम भी पागल आज हो गए
होली पर यूँ भांग चढ़ाकर, मस्ती में सब पागल हो गए

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone

दिल्ली में कुछ बात है

Puneet VermaBy on February 15, 2015

मेट्रो की इस खिड़की से, अक्षर धाम को देख रहा हूँ
स्वामी जी के चरणों में, अपना मस्तक टेक रहा हूँ
यमुना बैंक से दिख रही अब, चम चम करती रात है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

कश्मीरी गेट की सड़कों पर, फूटपाथ पर लगा बसेरा
आम आदमी तड़प रहा है, भड़क रहा है शहर ये मेरा
साथ हमारे मिशन ग्रीन है, ग्रीन पीस का साथ है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

नदियों और इन् नालों में, आज भी बसते लोग हमारे
हाई टेक इस दिल्ली में, आज भी बसते रोग वो सारे
शहर की इस तररकी में, जाने किसका हाथ है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

पुनीत वर्मा की कलम से

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone