दिल्ली में कुछ बात है

Puneet VermaBy on February 15, 2015

मेट्रो की इस खिड़की से, अक्षर धाम को देख रहा हूँ
स्वामी जी के चरणों में, अपना मस्तक टेक रहा हूँ
यमुना बैंक से दिख रही अब, चम चम करती रात है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

कश्मीरी गेट की सड़कों पर, फूटपाथ पर लगा बसेरा
आम आदमी तड़प रहा है, भड़क रहा है शहर ये मेरा
साथ हमारे मिशन ग्रीन है, ग्रीन पीस का साथ है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

नदियों और इन् नालों में, आज भी बसते लोग हमारे
हाई टेक इस दिल्ली में, आज भी बसते रोग वो सारे
शहर की इस तररकी में, जाने किसका हाथ है
कहता है अब अपना ये मन, दिल्ली में कुछ बात है

पुनीत वर्मा की कलम से

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone

माँ होती तो क्या होता

Puneet VermaBy on January 10, 2015

रहता हूँ मैं , अपनों में बेगाना बनकर
रोता हूँ मैं, सपनो में रोजाना जमकर
जलती इस धूप में, छाँव होती तो क्या होता
नकली इस भेस में, जीवन की इस रेस में
इस बेगाने देश में, माँ होती तो क्या होता

प्यासा हूँ मैं, नदियों के इस देश में
डूब रहा हूँ आज, मन के इस द्वेष में
यहां मीठे पानी की, बां होती तो क्या होता
नकली इस भेस में, जीवन की इस रेस में
इस बेगाने देश में, माँ होती तो क्या होता

खुली इस पवन में, मन ये घुटता है
झूठी इस चाह मैं, दिन ये लूटता है
गाँव की उस झील की, नाव होती तो क्या होता
नकली इस भेस में, जीवन की इस रेस में
इस बेगाने देश में, माँ होती तो क्या होता

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone

दीदार बस इक शज़र का, बाकी रह गया

Puneet VermaBy on December 7, 2014

सब्ज़ इ मुहीम के जाम में , ये साकी बह गया
कोई ख़्वाब था मन में मेरे, जो बाकी रह गया
छा गए आसमा में जबसे, उल्फत के बादल
दीदार बस इक शज़र का, बाकी रह गया

दिल्ली की जमीन को, रुस्वा मत करना कभी
बिगाड़ रहे इस जन्नत को, मत उनसे डरना कभी
रूमानी हो मौसम इसका, रिवाज वो कायम करना
निकले बस सोना इससे, इस मिट्टी को मुलायम करना

अल्फ़ाज़ों में ग्रीन टेक हो, जिगर में ग्रीन टेक हो
मोटी उन हसीनाओं की, फिगर में ग्रीन टेक हो
फुरकत हो इस चर्बी से, शुगर में ग्रीन टेक हो
शब इ बिमारी रुक्सत हो, शहर में ग्रीन टेक हो

वर्मा की कलम को, शर्म सार मत करना तुम
परवाज़ मिशन ग्रीन की, कैच अभी बस करना तुम
ख्वाब शब ए कुदरत का, बाकी बस रह गया
दीदार बस इक शज़र का, बाकी बस रह गया

Share on LinkedInPin on PinterestShare on Google+Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on RedditEmail this to someone