सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो

सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो

छोटी छोटी बातों पर, मन करता है हल चल ये देखो
सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो
काल ये कोई और नहीं, जिसपर अपना जोर नहीं
तुझको भी ये ले जाएगा, मुझको भी ये ले जाएगा
अन्धकार में डूब रहा जग, कांप रहा सम तल वो देखो
सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो

अर्जुन को जो रूप दिखाएं, कृष्ण काल की बात बताएँ
सब कुछ हर दिन खत्म हो रहा, क्यों तू अपना राज दिखाए
तू जिसपर अपना प्यार लुटाए, खत्म हो रहा पल पल वो देखो
अन्धकार में डूब रहा जग, कांप रहा सम तल वो देखो
सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो

सोते सोते भय सताए, काल हमको निगल ना जाए
परमाणु की शक्ति से , धरती सारी पिघल ना जाए
ओपन हिमर याद कर रहा, कुरुक्षेत्र का स्थल वो देखो
अन्धकार में डूब रहा जग, कांप रहा सम तल वो देखो
सब कुछ जिसमे डूब रहा अब , काल का बादल वो देखो

Bharat Mata ki Jai

Bharat Mata ki Jai

Bharat is the country of Bible and Geeta
Adorable shrine of Ram and Sita
Where gives the holy flying dove
The only message of peace and love

The desh with so much diversity
That laugh and loves, even in situation of adversity
Tend to forgive those, who try to remorse
Clean the thoughts, which make the situation worse

Let’s mark our attendence
On this day of Independence
Spread the love, expel out the bhay
Sar Utha ke Bolo, Bharat Mata ki Jai

– Puneet Verma @missiongreendelhi

What are you looking for ?


Your Email

Let us know your need

×
Connect with Us

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Message

×
Translate »