The Beautiful Delhi of Winters, Thanks Everyone

Entering Delhi in evening, and welcomed by never ending queues of Trucks, accompanied by black smog everywhere. With me i have my 1.5 years old daughter who is sleeping, and hopefully experiencing 7-10 cigarettes a day or may be more than that. Thanks to everyone, the Punjab and Haryana farmers who are burning something, the truck owners, plenty of cars emitting additional dangerous gases, builders for constructing graves for future generations. Thanks to government of Delhi, Haryana and Punjab for devising such great policies and regulations. Thanks to Delhites for pumping lungs of their kids with dangerous materials, to make their future filled with full of health issues and helping them die as soon as possible. I think this was Delhi we always wanted to have and now see our dream is shaping into reality. So, lets get ready to pack our bags, close our homes and leave Delhi forever. May be leaving Delhi would save our souls and save our city. Thanks again!

शाम को दिल्ली में प्रवेश कर रहा हूँ, ट्रकों की कभी भी समाप्त ना होने वाली कतारों ने मेरा स्वागत किया है, हर जगह काले धुएं के साथ। मेरे साथ मेरी 1.5 वर्षीय बेटी है जो सो रही है, और मुझे उम्मीद है कि एक दिन में 7-10 सिगरेट का अनुभव उसे भी हो रहा है या उससे भी अधिक। हर किसी को धन्यवाद करना चाहता हूँ, पंजाब और हरियाणा के किसान जो कुछ जला रहे हैं, ट्रकों के मालिक, अतिरिक्त खतरनाक गैसों को छोड़ने वाली कारों का, भविष्य की पीढ़ियों के लिए कब्र बनाने वाले बिल्डर्स का । ऐसी महान नीतियों और नियमों के निर्माण के लिए दिल्ली, हरियाणा और पंजाब सरकार को भी धन्यवाद करता हूँ। खतरनाक सामग्रियों के साथ अपने बच्चों के फेफड़ों को पंप करने के लिए दिल्ली वालों को धन्यवाद, ताकि उनका भविष्य बिमारियों से सुसज्जित हो सकते और उन्हें मृत्यु का तोहफा मिल सके। मुझे लगता है कि ये वही दिल्ली थी जिसे हम हमेशा से चाहते थे और अब देखिये हमारा सपना हकीकत में बदल रहा है। तो, चलिए अपने बैग पैक करें, अपने घरों को ताला लगा दें और दिल्ली को हमेशा के लिए अलविदा कर दें । दिल्ली छोड़कर जाना ही हमारे लिए और हमारे बच्चों के भविष्य के लिए ठीक होगा । शायद ऐसा करने से दिल्ली का बचाव हो जाए। एक बार फिर से धन्यवाद!

– मिशन ग्रीन दिल्ली

Facebook Comments

Puneet Verma
Puneet Verma is passionate traveler, youtuber, webmaster and promoter of Mission Green Delhi blog & platform. He is Acumen & Ideo.org certified Human-Centered Design professional. Subscribe to youtube channel of Puneet "Life of Webmaster" at https://goo.gl/3sVNPM

For business promotion, whatsapp him at +919910162399 or mail at missiongreendelhi@gmail.com.

To hire Puneet as webmaster for your business website, mail him at puneet6565@gmail.com

4 thoughts on “The Beautiful Delhi of Winters, Thanks Everyone

  • mm
    November 3, 2018 at 5:51 pm
    Permalink

    आम आदमी करे क्या ?सरकार काम करके राज़ी नहीं है ,ऐसे प्रदूषण करने वालों पर न तो रोक लगा रहे हैं न इससे बचने का उपाय कर रहे हैं ,दिल्ली सरकार ने पेड़ लगाने का जो काम शुरू किया था वह फेसबुक से शुरू हो कर फेसबुक पर ही ख़तम हो गया क्योंकि मेरे पुरे क्षेत्र में एक पेड़ नहीं लगाया गया इनकी तरफ से ,अगर लगाया भी होगा तो फोटो खिंचवाने के लिए उसके बाद क्या हुआ उससे उनको कोई लेना देना नहीं। मैंने खुद विधायक जी को दो तीन बार फ़ोन किया था पेड़ लगाने के प्लान के बारे में जान्ने के लिए उनका कहना था अभी तक हमें इस बारे में कुछ नहीं पता है

    Reply
  • mm
    November 3, 2018 at 5:54 pm
    Permalink

    Very true, this has been experienced by many families. Is leaving Delhi a solution or we have some better things to be done. #GiveMeMask is a call to action to protect ourselves from Pollutions. Suggest your thoughts so that at least we can volunteer for you to fight against this deadly polluited city…

    Reply
  • mm
    November 3, 2018 at 5:55 pm
    Permalink

    ऐसा प्रतीत होता है कि कोई भी सरकारी / निजि एजेंसी पर्यावरण को बेहतर बनाने की दिशा में गंभीर नहीं दिखती। यदि दिल्लीवासियों को कुछ और वर्ष स्वच्छ वायु में सांस लेने की चाह है तो उन्हें दिल्ली को नमन कर, कहीं अन्यत्र चले जाना चाहिए। यहाँ तो एक दूसरे पर दोषारोपण के अतिरिक्त कुछ नहीं हो रहा।

    Reply
  • mm
    November 3, 2018 at 5:56 pm
    Permalink

    Very well written, sir. I understand it. But the point is, and the all important point is we can do two things.

    1. On the personal front, reduce reuse recycle.

    2.Form pressure groups and do protests. Compel the government to take drastic actions.

    2. In the next elections, whether general or vidhansabha, check the manifestos of the parties and ask the questions over their pollution plan.

    Constantly remind them and scrutinise them over their work.

    And the best long term method would be to see that in the governments invest in education.

    UPA reduced education budget. We remained silent. NDA reduced it further. and we still were silent. This has to change.

    but people who have breathing problems have no viable option but to move out. plain and simple.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − 8 =

What are you looking for ?


Your Email

Let us know your need

×
Connect with Us

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Message

×
Subscribe

×
Close