देखो मैं आजाद हुआ


सपेरा हूँ मैं और तुम सब नाग हो –  जुबान हूँ मैं और तुम सब राग हो
तुमको अपने बस में करके , देखो देश आबाद हुआ  – तोड़ के physical  बंधन सारे, देखो मैं आजाद हुआ

एक नाग भी पकड़ से छूटा, तब तब देश को तुमने लूटा  – रागों की इस शोर में , सुर भी हर पल हमसे रूठा
सत्ता का ये कैसा virus , यूँ ही तू  बर्बाद हुआ
तुमको अपने बस में करके , देखो देश आबाद हुआ  – तोड़ के physical  बंधन सारे, देखो मैं आजाद हुआ

उसको नाचते तुमने देखा, खा गए हो तुम भी धोखा  – सता के इस जाल से, जीवन तेरा हो गया रूखा
खो के माया जाल में, देखो ये नाबाद  हुआ
तुमको अपने बस में करके , देखो देश आबाद हुआ  – तोड़ के physical  बंधन सारे, देखो मैं आजाद हुआ

Facebook Comments

mm
Hello Friends, my name is Puneet Verma and I am a passionate traveler, environment blogger, and nature lover. People call me a visual storyteller and influencer and God has given me an opportunity to initiate a beautiful community of environment enthusiasts at missiongreenindia.org and missiongreendelhi.com.

Reach out to me at 9910162399 for collaboration.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 2 =

What are you looking for ?

    ×
    Connect with Us

      ×
      Subscribe

        ×