ना जाने क्यों अकेला हूँ

निधि भरे संसार में , इस गहरे आकाश में – ना जाने क्या खोजता हूँ,  इस गहरे आभास में
यादों का जो दरस कराए, बन गया वो मेला हूँ – इस भरी महफ़िल में, ना जाने क्यों अकेला हूँ
_______________________________________

तन्हाई की इस खाई में , चेष्टा पल पल करता हूँ – थोडा ऊपर चढ़ कर आऊं, कोशिश पल पल करता हूँ
रख कर मुघ्को भूल गया जो, उस वादक की बेला हूँ – इस भरी महफ़िल में, ना जाने क्यों अकेला हूँ
_____________________________________

आज अकेले हम सब बैठे, वक़्त साथ में बैठ रहा  है – हलके हलके छलक रहा जो, जाम भी हमसे ऐंठ रहा है
अदृश्य कोण में चमक रही जो, बन गया वो तकिला हूँ – इस भरी महफ़िल में, ना जाने क्यों अकेला हूँ

Facebook Comments

Puneet Verma
Puneet Verma is passionate traveler, youtuber, webmaster and promoter of Mission Green Delhi blog & platform. He is Acumen & Ideo.org certified Human-Centered Design professional. Subscribe to youtube channel of Puneet "Life of Webmaster" at https://goo.gl/3sVNPM

For business promotion, whatsapp him at +919910162399 or mail at missiongreendelhi@gmail.com.

To hire Puneet as webmaster for your business website, mail him at puneet6565@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + seventeen =

What are you looking for ?


Your Email

Let us know your need

×
Connect with Us

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Message

×
Subscribe

×
Close