The Truth of Social Media Websites

आज का युवा अपना सबसे अधिक वक़्त कहाँ व्यतीत कर रहा है ? तो इसका जवाब है सोशल मीडिया वेब साइट्स पर. और ऐसा करते वक़्त हम पूरी तरह से अपने दुःख दर्द और ख़ुशी के भावों को टेक्स्ट, इमाज़ेस और वीडीओस के जरिये डाटाबेस में डाल रहे हैं. हमे क्या अच्छा लगता है और क्या नहीं , इसका भी एक रिकॉर्ड बनता जा रहा है. हमे कौन पसंद है और कौन नहीं, ये भी डाटाबेस में रिकॉर्ड किया जा रहा है. इस तरह का डाटाबेस तैयार होने से हमे किसी भी व्यक्ति या ऑब्जेक्ट के बारे में जानकारी लेना आसान हो जाएगा. हम अगर एक सोशल मीडिया वेबसाइट चला रहे हैं और अगर उसका इस्तेमाल ये 70 प्रतिशत दुनिया रोज कर रही है तो हम अडवांस रिपोर्टिंग के जरिये ये जान लेंगे की कौन सा व्यक्ति क्या सोचता है, कैसे सोचता है, कहाँ रहता है, कहाँ काम करता है, उसके परिवार के लोग कौन हैं, उसके दोस्त कौन हैं, और वो क्या करने वाला है. ऐसा प्रतीत हो रहा है मानो हम अपनी कुंडली खुद बनाने में लगे हुए हैं. इस डाटाबेस का सबसे बड़ा फायदा ये होगा की मार्केटिंग कंपनीयां सोशल मीडिया डाटाबेस की मदद से व्यक्ति की जरुरत को समझ पाएंगी और उनसे पूछे बगेर ही उनकी जरुरत की चीजें उनको बेच पाएंगी.

केवल इतना ही नहीं, अगर इस डाटाबेस का इस्तेमाल सामान बेचने के लिए किया जा सकता है , तो इसका इस्तेमाल रीसर्च करने के लिए भी हो सकता है. अगर हम लोगों की जरूरतों को समझ पाएंगे तो हम उनकी मुश्किलों को भी समझ पाएंगे. और इस तरह जब उनके जीवन में आ रही परेशानिओं को देख पाएंगे तो उसका उपाए करना आसान हो जाएगा.

बस चिंता इसी बात की है ये डाटाबेस किसी गलत हाथ में ना चला जाए. अगर ऐसा होगा तो कई तरह की परेशानिआँ भी आ सकती हैं. इधर सुरक्षा कंपनिया इसका इस्तेमाल जुर्म कम  करने के लिए कर रही हैं, तो उधर असामाजिक तत्व इसका इसका इस्तेमाल एक दुसरे को नुक्सान पहुंचाने के लिए कर सकते हैं. बस जरुरत है तो इस डाटाबेस को सुरक्षित रखने की.

आज गूगल और फेसबुक दुनिया के सबसे बड़े डाटाबेस हैं जो लोगों के बारे में हर जानकारी रखते हैं और बड़ी बड़ी सुरक्षा एजेनसिया इसका इस्तेमाल करके जुर्म और बिमारीआं समाप्त कर रहे हैं.

बस यही दुआ करता हूँ की इस डाटाबेस का इस्तेमाल दुनिया में शान्ति लाने के लिए हो. धन्यवाद.

What are you looking for ?

    ×
    Connect with Us

      ×
      Subscribe

        ×